Bandhan pyaar ka


कुछ ऐसा रिश्ता है… भाई बहन का…
जब भी माँगता है… दुआ ही माँगता है।।

माँगते है ख़ुशी दुआओ में तुम हमेशा खुश रहो।
जो भी है… खूबसूरत है… हमारा है… बस संभाल के इसे रखो।।

बचपन की खिड़की जब खोलते थे…
तो खिलखिलाहट मिलने चली आती थी।
अब जब खिड़की खोलते है…

तो दुनियादारी चली आती है।।

चलो फिर से चलते है उस उम्र में जब सिर्फ भाई बहन के रिश्ते थे।
प्यार और झगड़े भी थे, पर एक दुसरे को मनाते भी हम ही थे।।

कितनी आसान थी ज़िन्दगी जब सब साथ होते थे…
चॉक्लेट और पेस्ट्री खाकर खुश हो जाते थे… हम खूबसूरत होते थे।।

कुछ ऐसा रिश्ता है… भाई बहन का…
जब भी माँगते है… दुआ ही माँगते है।।

ऐसा सिर्फ किस्मत वालो के पास होता है।
ऐसा प्यार सिर्फ भाई बहन का होता है।।

19 thoughts on “Bandhan pyaar ka

    1. Uma Gupta

      Bhai behan ka rishta kuchh un rishton me hai jise sachmuch atoot kaha ja sakta hai…doori chahe kitni bhi ho ye fact badal nahin sakta ki tum mere bhai ho ya tum meri behan ho…kyunki ye hamara nahin bhagwan ka banaya rishta hota hai…jaise zindagi me ma baap nahin badal sakte waise bhai behan nahin badal sakte😘

      Liked by 2 people

    2. Punam sinha

      V sweet post mala tumne bhayi bahan ke is prem bandhan PE bahut hi khubsurat post kiya h really bhayi bahan ke is pavitra riste me sirf or sirf ek dusare ke liye pyar or ashirbad hi hota h

      Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s