Guroor


नादान पंछी की तरह… कभी इस ड‍ाल, तो कभी उस डाल पे ठिकाना ढूढ़ते रहे…
अपनों की ख़ुशी के लिए … न जाने कितने कसम खुद से किये, और खुद को जोड़ते रहे…

अपने पे हमेशा गूरर था… के सब अपने है…
जब वक़्त आया… तो सब ने अपने घोंसले चुने।।
और इस नादान को डाल पे रहने दिया…
खुद सब अपने घोंसले पे गूरर करते रहे।। 

नादान पंछी की तरह… कभी इस ड‍ाल तो कभी उस डाल पे ठिकाना ढूढ़ते रहे!!

7 thoughts on “Guroor

  1. Vanita

    The words resemble so much to our life at present ….Just the thing is that …We can’t Express it so beautifully like you did. Malati you are making yourself more perfect day by day in this field…..And your voice gives the content the right feel…

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s